इस एक वजह से रोक दिया जाता है आपका रिज्क, ज़रूर जाने वजह, कही आप भी …

0
1001

आज कल जिसको देखिये उसकी ज़बान पर ये दर्द ज़रूर होता है कि रिज्क कि तंगी है , रोज़ी में कमी है . इन वजह से लोग अक्सर परेशान हाल भी दिखते है . रिज्क कि तंगी ख़तम करने कि हर मुमकिन कोशिश भी करते है , कमाने के लिए मेहनत भी करते है तब भी उनकी रिज्क में तंगी होती है . आज हम आपको बतायेंगे एक ऐसी वजह जिसकी वजह से आपका या किसी भी इंसान का रिज्क रोक दिया जाता है . हदीस में इस वजह का ज़िक्र आया है कि इंसान का रिज्क क्यूँ रुक जाता है .





इस्लाम धर्म के आखिरी पैगम्बर हज़रत मुहम्मद (स.अ) ने रिज्क को लेकर ये फ़रमाया :
अस्मा (रज़ी.अ.) से रिवायत है कि रसूलुल्लाह स.अ. ने फ़रमाया कि खैरात को मत रोको वरना तुम्हारा रिज्क भी रोक दिया जाएगा (सहीह बुखारी, जिल्द न. 2, हदीस न. 1433 ) . इस हदीस से ये पता चला कि खैरात देना बहुत ज़रूरी है . आज कल लोग बिलकुल इस बात का ध्यान नहीं रखते है तो जान लीजिये जो शख्स खैरात नहीं देता उसका रिज्क रुक जाता है .





आपको बतादें सदके , खैरात का ज़िक्र एक बार नहीं है बल्कि ये इतने ज़रूरी अमल हैं कि इनका ज़िक्र कई जगह किया गया है . ख़ास कर इसका हुक्म दिया गया है . अगर आप रिज्क कि तंगी से जूझ रहे है तो खैरात करें दुआ करें इंशाल्लाह आपकी हर परेशानी हल होजाएगी . इस अमल को रोके ना जो भी अल्लाह ने आपको दिया उसमे से खैरात ज़रूर करें .





इस पोस्ट को शेयर कर अपने दोस्तों रिश्दारों सभी तक इस बात को पहुचाये . बेशक रिज्क देने वाला अल्लाह है .

Loading…

loading…



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here