क्या खाना-ए-काबा के अन्दर कोई रहता है ?

0
10008

दोस्तों इस दुनिया में कोई ऐसी जगह नहीं है जो खाना ए काबा की तरह मशहूर , मुकद्दस और मरकजी हैसियत रखती हो. यह मकाम सऊदी अरब में वादी ए हिजाज मैं वाकए हैं रोजाना हजारों लोग 24 घंटे खाना ए काबा का तवाफ करते हैं, खाना ए काबा की तस्वीर लाखों घरों की जीनत है और करोड़ों मुसलमान इसकी जानिब सर कर के नमाज पढ़ते हैं क्योंकि इसको अपना तबला तस्लीम करते.





खाने काबा के बारे में आज हम कुछ ऐसी बातें बताएंगे जिससे बहुत कम ही लोग वापस हैं और साथ साथ हम यह भी बताएंगे कि खाना ए काबा के अंदर क्या है ? बैतुल्लाह शरीफ की चारदीवारी के अंदर क्या मौजूद है ?





दोस्तों खाना काबा जो कि आज हम देख रहे हैं यह ऐसा नहीं है जो कि हजरत इब्राहिम अली सलाम और इस्माइल अलैहिस्सलाम के वक्त में बना था. वक्त के साथ पेश आने वाली कुदरती आहात और हादसात की वजह से इसको दोबारा बनाने की जरूरत पड़ती रही है बेशक हम सब जानते हैं खाना ए काबा की दोबारा तामीर का एक बड़ा हिस्सा नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम किस जिंदगी में नबुव्वत मिलने से पहले मुमकिन हो चुका था जो वो वक्त था जब नबी अकरम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने अपनी दूर अंधेरी से एक बड़ी खून रेज़ी को रोका था. आप भी इस बात को जानते होंगे कि एक बड़े कपड़े पर हजरे अस्वद को रखकर सभी कबीलो के सरदार से उठाया था.




इसके बाद आने वाले वक्त में कई बार खाना ए काबा की तामीर होती रही है आखिरी बार खाना ए काबा की तामीर 1996 में की गई इसमें खाना ए काबा की हद बढ़ाई गई और कई पत्थरों को हटा दिया गया और बुनियाद को मजबूत करके नई छत डाली गई थी यह अब तक की आखिरी बड़ी तामीर और खाना ए काबा को पहले से मजबूत तसव्वुर किया जाता है





बैतुल्लाह शरीफ लगभग 180 मुरब्बा मीटर रकबे पर बना हुआ है और इसकी छत लकड़ी के तीन मजबूत पायो पर टिकी हुई है पारो की लकड़ी दुनिया की मजबूत तरीन लकड़ियों में से एक है और सहाबी रसूल अब्दुल्ला बिन उमर रजि अल्लाह ताला अनहो ने इन लकड़ियों के पाए लगवाए थे गोया इस वक्त इनको 1350 साल गुजर चुके हैं. इन तीनों से दोनों के बीच एक पतली शहतीर नुमा लठ आवेज़ा है. इसके दोनों तरफ शिमालि और जुनूबी दीवारें मौजूद हैं . मस्जिदे हरम के जिम्मेदारों के मुताबिक काबा के अंदर दायीं जानिब रुक शामी है … आगे वीडियो मे खाना ए काबा के अंदर क्या क्या मौजूद है . देखिये वीडियो :

Loading…

loading…




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here